बच्चे आँखे खोल कर क्यों सोते है

जब कोई भी औरत माँ बनती है तो उसे बच्चों की आदतों के बारे में नहीं पता होता । कई बार अगर बच्चा कोई गलत आदत से या फिर किसी परेशानी से जूझ रहा है तो उसे एक माँ के लिए समझना बहुत जरूरी होता है । कई बार कुछ माएँ कहती है कि उनका बच्चा आँखे खोलकर क्यों सोता है कुछ को लगता है कि यह शायद परिवार वालों की किसी आदत में से शुमार हो सकता है । पर हाँ वाकई ऐसा कई बार हो सकता है और कई बार यह किसी मुश्किल का कारण भी हो सकता है ।

इसका मुख्य कारण :

  • इसका मुख्य कारण यह भी हो सकता है कि बच्चे के चेहरे की नसें डैमेज होती है उस वजह से भी बच्चा आँखे खोल कर सोता है ।
  • इसका एक कारण रैपिड आई मूवमेंट भी हो सकता है जिसका मतलब है कि जब बच्चा अपने सपने में कोई गतिविधि कर रहा हो तब भी वह आंखे खोलकर सोता है ।
  • इसका एक कारण हो यह भी हो सकता है जब बच्चे की कोशिकाओं मे पानी की कमी हो तब भी ऐसा होने की सम्भावना रहती है ।

आँखे खोलकर सोने के नुकसान

  • अगर बच्चा आँखे खोलकर सोता है तो उसे दृष्टि दोष भी हो सकता है ।
  • आँखे खोल कर सोने से बच्चे की आँखों में जलन महसूस होगी और वो आँखों को बंद करने में परेशानी महसूस करेगा ।
  • बच्चे की आँखों में थकावट से वो आँखों को कमजोर महसूस  करेगा ।
  • आँखों में दर्द हो सकता है और आँखे लाल भी हो सकती है

कुछ मुख्य सलाह डॉक्टर द्वारा

  • कई पैड्रिट्रिशन्स ऐसा करने पर बच्चे के सो जाने पर पलकों पर सरजिकल टेप लगाने की सलाह देते है ऐसा करने से बच्चे को आँखें  बंद करने की आदत हो जाती है ।
  • कई बार डॉक्टर बच्चो को आर्टिफिशल टीयर्स की सलाह देते है । 
  • कई बार डॉक्टर सर्जरी तक करने की सलाह देते है ।
  • अगर बच्चा एक साल की उम्र तक भी आँखे खोलकर सोता हो तो डॉक्टर को अवशय दिखाना चाहिए ।

कुछ घरेलू इलाज बच्चों को आराम देने के लिए : 

  • सबसे पहले तो आप जब भी बच्चे को सुलाए उसकी पलकों को बहुत ही हल्के हाथों से बंद करे और यह प्रक्रिया तब तक करे जब तक बच्चा पूरी तरह सो न जाये ।
  • आप बच्चे को गुनगुने पानी से नहलाए उसे लोरी सुनाए और धीरे धीरे झूला झुलाते हुए सुलाए ताकि बच्चा रिलैक्स हो कर सो जाए ।
  • आप उसे सुलाने वाले कमरे का टेम्परेचर नोर्मल रखे और वहाँ अँधेरा जरूर करे ताकि अगर बच्चा आँखे खोल कर भी सोए तो उसकी आँखों को कोई भी लाइट परेशान न करे ।
  • अगर बच्चा 18 महीने का हो जाता है तब भी आँखे खोल कर सो रहा है तो आप उसे डॉक्टर को जरूर दिखाए । आप उसकी आई टेस्ट भी करवा सकती है ताकि उसका कॉर्निया डैमेज न हो ऐसी सूरत में डॉक्टर कई बार आँखों की नसों को मॉइस्ट करने के लिए आई ड्रॉप्स भी देते है तो आप इस बारे में बिल्कुल भी लापरवाही न करते हुए जल्द से जल्द बच्चे को डॉक्टर को दिखाए ।
  • आप बच्चे को पीठ के बल सुलाए ताकि उसके चारों और एयर सर्कुलेशन ठीक से होता रहे और कोशिश करे उसके पास कोई भी सामान रजाई, खिलोने न रखे ।
  • जब भी बच्चा सो रहा हो हो इस बात का खास ध्यान रखे कि कमरे में कोई शोर न हो ऐसा होने पर बच्चा कच्ची नींद में उठकर स्ट्रेस भी हो सकता है जो उसके लिए हानिकारक है इसीलिए बच्चे को सोते समय बिलकुल चैन से सोने दे ।  
  • बच्चे की आदत समय के साथ न बदलने पर उसे जरूर किसी चाइल्ड स्पेशलिस्ट को दिखाए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top