पीसीओडी क्या है-लक्षण,कारण और ईलाज

Polycystic Ovarian Disease (PCOD)

पीसीओडी (PCOD) यानि पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर की समस्या आमतौर पर महिलाओं के अंदर हॉर्मोनल असंतुलन  होने के कारण होती है। इसमें महिला के शरीर में पुरुष हार्मोन एण्ड्रोजन   का लेवल बढ़ जाता है और अंडाशय पर सिस्ट बनने लगते हैं । सामान्य तौर पर मनुष्यों में शरीर की सभी प्रक्रियाओं के सही तरह से काम करने के लिए “पुरुष” और “महिला” दोनों हार्मोन की आवश्यकता होती है, लेकिन पीसीओडी वाली महिला में बहुत अधिक पुरुष हॉर्मोन की मात्रा सामान्य से ज़्यादा बढ़ जाती हैं। जिस कारण से अंडाशय में समस्या पैदा होने लगती है और साथ ही अनियमित पीरियड्स की समस्या भी हो सकती है।

PCOD के संकेत :

  • अनचाही जगहों में बालों का विकासमहिला में पुरुष हॉर्मोन एण्ड्रोजन ज़्यादा बनने की वजह से शरीर में काफी बदलाव आ सकते है । इसमें चेहरे या ठोड़ी, स्तनों, पेट, या अंगूठे और पैर की उंगलियों जैसे स्थानों पर अनचाहे बाल उग सकते हैं।
  • बालों का झड़नाशरीर में एण्ड्रोजन हॉर्मोन की मात्रा बढ़ने से सिर के बाल पतले हो सकते है और जिससे बालों का झड़ना बढ़ सकता है।
  • वजन बढ़नापीसीओडी के कारण महिलाएं वजन बढ़ने की समस्या के साथ संघर्ष करती हैं या फिर उन्हें वजन कम करने में मुश्किलें होती है।
  • मुंहासे या तैलीय त्वचाहार्मोन परिवर्तन के कारण पिंपल और तैलीय त्वचा की समस्या हो सकती है।
  • सोने में परेशानीसोते समय परेशानी और हर समय थकान महसूस हो सकती है। साथ ही हॉर्मोन के परिवर्तन के कारण सिर दर्द की समस्या भी हो सकती है।
  • गर्भवती होने में परेशानीपीसीओडी बांझपन के प्रमुख कारणों में से एक है।
  • पीरियड्स की समस्याएंपीरियड्स अनियमित हो सकते हैं या कई महीनों तक पीरियड्स आना बंद हो जाते है। या फिर पीरियड्स के दौरान बहुत भारी ब्लीडिंग हो सकती है।

पीसीओडी का निदान :

कोई भी एक टेस्ट पीसीओडी की उपस्थिति का निर्धारण नहीं कर सकता है। डॉक्टर आपसे आपके लक्षणों के बारे में पूछ सकते है और शारीरिक जाँच और ब्लड टेस्ट के ज़रिए हॉर्मोन, कोलेस्ट्रॉल और ग्लूकोज की जाँच की मदद से इस समस्या का निदान किया जा सकता है। इनके अलावा अल्ट्रासाउंड का उपयोग गर्भाशय और अंडाशय को देखने के लिए किया जा सकता है।

  • शारीरिक जाँचइसमें डॉक्टर आपके ब्लड प्रेशर, बी एम आई और कमर के आकार की जांच कर सकता है। साथ ही अनचाही जगहों पर बालों के विकास, मुँहासे के लिए वह आपकी त्वचा को देख सकता है।
  • पेल्विक जाँच : इसमें डॉक्टर नार्मल चेकअप करते हैं। डॉक्टर योनि, गर्भाशय ग्रीवा, गर्भाशय, फैलोपियन ट्यूब और अंडाशय जैसे क्षेत्रों में किसी भी प्रकार की असामान्य चीज़ की जाँच करेगा।
  • पेल्विक अल्ट्रासाउंड : डॉक्टर आपके अंडाशय में सिस्ट और गर्भाशय की परत की जांच के लिए अल्ट्रासाउंड कर सकते है। 

पीसीओडी उपचार :

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर का कोई विशेष इलाज नहीं है। पीसीओडी का उपचार इसके लक्षणों को कम व खत्म करने और आगे की मुश्किलों को रोकने के उद्देश्य से किया जाता है। 

स्वास्थ्य संबंधी अच्छी आदतें :

  • आप अच्छी तरह से खाएं।
  • पीसीओडी के साथ कई महिलाएं अधिक वजन या मोटापे से परेशान हैं। 
  • पीसीओडी से डायबिटीज हो सकता है, इसलिए आपका डॉक्टर आपको स्टार्च या शुगर वाले यानि मीठे खाद्य पदार्थों को सीमित करने के लिए कह सकता है ।
  • डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाइयों के सेवन से हार्मोन को संतुलन किया जा सकता है ।
  • कम कार्बोहाइड्रेट्स वाले भोजन का सेवन
Back To Top